तनाव व्यक्ति को तोड़ देता है !

मानसिक तनाव व्यक्ति को दबा सकता है , पर तोड़ता नहीं !

लेकिन भावनात्मक तनाव व्यक्ति को तोड़ देता है !

दुनिया क़ा काम आपके बिना चल जायेगा !

मगर आपका काम दुनिया के बिना नहें चलेगा !

इसलिए सबसे तालमेल बनाकर चलो !
उपदेश से उदाहरण अधिक अच्छा आचरण है।

Posted on February 3, 2012, in All categorized, सुधांशुजी महाराज. Bookmark the permalink. Leave a comment.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: